पूनम पांडे ने किया ‘द जर्नी ऑफ कर्मा’ का हॉट प्रमोशन || Hot Promotion of the journey of karma

0
504
views

दिलवालों की दिल्ली में पूनम पांडे ने किया ‘द जर्नी ऑफ कर्मा’ का प्रमोशन


सोशल मीडिया सनसनी के नाम से मशहूर पूनम पांडे अपनी कामुक थ्रिलर ‘द जर्नी ऑफ कर्मा’ के साथ बड़े परदे पर वापसी करने के लिए तैयार हैं। 

जगबीर दहिया द्वारा निर्देशित यह फिल्म 26 अक्टूबर को रिलीज की गयी है। इसलिए अपनी इस फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में पूनम पांडे दिल्ली पहुंचीं। 

कनॉट प्लेस स्थित पीवीआर प्लाजा में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया के साथ पूनम ने खुलकर बातचीत की। इस दौरान उनके साथ एक्टर शिवेंद्र दहिया भी मौजूद थे हालांकि, फिल्म में प्रमुख भूमिका में एक्टर शक्ति कपूर भी हैं।

इस फिल्म में अपनी भूमिका और इसमें काम करने के अनुभव के बारे में पूछने पर पूनम पांडे ने कहा, ‘इस फिल्म में मैं 18 साल की युवती का किरदार निभा रही हूं, इसलिए इस किरदार को साकार करने के लिए मुझे जीवन की पुरानी चीजों पर वापस जाना पड़ा। 

इसके लिए मैं कॉलेज और स्कूल जाने वाली कुछ लड़कियों से मुलाकात की। यह एक अद्भुत अनुभव है। इसके अलावा फिल्म में शक्ति कपूर जैसे दिग्गज एक्टर के अपोजिट काम करना तो और ज्यादा रोमांचक था। जब मुझे पता चला कि मैं शक्ति सर के साथ काम कर रही हूं, तो वास्तव में मैं काफी एक्साइटेड हो गई थी। मुझे अहसास हो गया था कि परदे पर यह एक दिलचस्प जोड़ी होगी।

इसके अलावा, ‘मीटू’ कैंपेन के बारे में पूछने पर पूनम ने कहा, ‘ठीक है कि यह एक गंभीर मुद्दा है, लेकिन मैं कहना चाहूंगी कि इस मसले पर हर लड़की सच ही नहीं बोल रही है। 


हर कोई यहां स्मार्ट है और हर कोई जानता है कि वास्तव में ‘मीटू’ के बहाने क्या हो रहा है। हालांकि, हमारे सेट पर ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। मैं कहूंगी कि शक्ति कपूर एक बहुत ही अच्छे इंसान है और मेरे साथ ‘मीटू’ जैसा कुछ भी नहीं हुआ।


वहीं, शिवेंद्र दहिया ने सूर्या एंटरटेनमेंट की इस फिल्म ‘द जर्नी ऑफ कर्मा’ में एक कैमियो करते नजर आएंगे। शिवेंद्र ने कहा, ‘मैंने मूवी ‘द जर्नी ऑफ कर्मा’ के लिए प्रोजेक्ट डायरेक्टर के रूप में काम करना शुरू किया, ताकि कैमरे के पीछे यानी शूटिंग करने के लिए विषय, पटकथा, कहानी, कलाकारों का चयन आदि सही हो। औा, मुझे खुशी है कि सब कुछ बेहतरीन हुआ है।

जहां तक शक्ति कपूर और पूनम पांडे के साथ काम करने की बात है, तो यह मेरे जीवन का सबसे रोमांचक और बहुत कुछ सीखने का अनुभव था।
जगबीर दहिया द्वारा निर्मित और रूपेश पॉल द्वारा लिखित ’द जर्नी ऑफ कर्मा’ एक ऐसी लड़की की कहानी है, जो बहुत गरीब है और अपनी मां के साथ अकेली रहती है। 

उसके सपने ऊंचे हैं, वह इंजीनियर बनना चाहती है और इसके लिए अमेरिका में पढ़ाई करना चाहती है। लेकिन, उसकी जिंदगी के सफर में ऐ से बढ़कर एक मोड़ आते हैं, जिसमें उसे एक रहस्यमय बूढ़े आदमी के साथ हमबिस्तर भी होना पड़ता है।





http://feeds.feedburner.com/TheAwaaz

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here