Zakhm ab sookh raha hai pyaray | ज़ख्म अब सूख रहा है प्यारे #By RJ महफ़ूज़

10
569
views
काव्य कोष  – 

ज़ख्म अब सूख रहा है प्यारे
ज़ुल्म अब डूब रहा है प्यारे 
नया सूरज चमकने के लिए
आसमान ढूंढ रहा है प्यारे 
जाने ये कौन मसीहा बनकर 
हाल ए दिल पूछ रहा है प्यारे 
वो कैसे बेदार करेगा सबको 
जो खुद ही ऊँघ रहा है प्यारे 
अर्श से आज ख़ुशी का नग्मा
फ़र्श पे गूंज रहा है प्यारे 
सुर्ख़ जोड़े में वो शोला बदन 
ज़िस्म को फूंक रहा है प्यारे 
कोई खामोश निगाहों से हसन 
ज़िन्दगी लूट रहा है प्यारे ….
Zakhm ab sookh raha hai pyaray
Zulm ab doob raha hai pyaray

Naya sooraj chamaknay ke lyay
Aasman dhoond raha hai pyaray
Jaanay ye kon maseeha ban kar
Haal e dil pooch raha hai pyaray
Wo Kese bedaar karaiga sab ko
jo khood hi oong raha hai pyaray
Arash se aaj khushi ka naghma
Farsh pe goonj raha hai pyaray
Surkh joday me wo shola badan
Jism ko phoonk raha hai pyaray
Koi Khamosh nigaho se hasan
Zindagi Loot raha hai pyaray
Written by me MAHFOOZ

http://feeds.feedburner.com/TheAwaaz

10 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here